October 13, 2018

Image result for nakshatra charan table hindi

नक्षत्रों के चरण तथा इनके चरणाक्षर

ज्योतिषशास्त्र ने आसानी से समझने के लिए हर नक्षत्र के चार-चार भाग किए हैं, जिन्हें प्रथम चरण, दूसरा चरण, तृतीय चरण व चतुर्थ चरण का नाम दिया गया है।
नक्षत्रों के चरणाक्षर
हरेक नक्षत्र के जो 4-4 चरण होते हैं, उनमें से प्रत्येक नक्षत्र के प्रत्येक चरण को एक-एक नक्षत्र ज्योतिष शास्त्र ने निर्धारित कर दिया है जिस नक्षत्र के जिस चरण में जिस व्यकित का जन्म होता है, उसका नाम उसी जन्मकालीन नक्षत्र के चरणाक्षर पर रखा जाता है। उदाहरण के लिए यदि किसी भी व्यक्ति का जन्म अश्विनी नक्षत्र के दूसरे चरण में होता है तो  उसका नाम इसी नक्षत्र के दूसरे चरण के अक्षर चे से रखा जाएगा। जैसे चेतन्य, चेतक, चेरम आदि। किस नक्षत्र के कौन कौन से अक्षर होते हैं इसे इस टेबल के अनुसार अच्छी तरह से समझा जा सकता है।

नक्षत्र -Constellationचरणाक्षर – 1st Letter वश्य – Vashyaयोनि -Yoniगण -Ganaनाड़ी -Nadi
अश्विनीचू,चे,चो,लाचतुष्पदअश्वदेवआदि
भरणीली,लू,ले,लोचतुष्पदगजमनुष्यमध्य
कृत्तिकाअ,इ,उ,एचतुष्पदमेढ़ाराक्षसअन्त्य
रोहिणीओ,वा,वी,वूचतुष्पदसर्पमनुष्यअन्त्य
मृगशिरावे,वो,का,कीपहले दो चरण चतुष्पद,बाद के दो चरण मनुष्यसर्प्देवमध्य
आर्द्राकु,घ,ड़,छ्मनुष्यश्वानमनुष्यअदि
पुनर्वसुके,को,हा,हीपहले तीन चरण मनुष्य, बाद का एक चरण जलचरमार्जारदेवआदि
पुष्यहू,हे,हो,डाजलचरमेढादेवमध्य
अश्लेषाडी,डू,डे,डोजलचरमार्जारराक्षसअन्त्य
मघामा,मी,मू,मेचतुष्पदमूषकराक्षसअन्त्य
पूर्वाफाल्गुनीमो,टा,टी,टूचतुष्पदमूषकमनुष्यमध्य
उत्तराफाल्गुनीटे,टो,पा,पीपहला चरण चतुष्पद, बाकी तीन मनुष्यगौमनुष्यआदि
हस्तपू,ष,ण,ठमनुष्यमहिषदेवआदि
चित्रापे,पो,रा,रीमनुष्यव्याघ्रराक्षसमध्य
स्वातीरू,रे,रो,तामनुष्यमहिषदेवअन्त्य
विशाखाती,तू,ते,तोपहले तीण चरण मनुष्य, बाद का एक चरण कीटव्याघ्रराक्षसअन्त्य
अनुराधाना,नी,नू,नेकीटमृगदेवमध्य
ज्येष्ठानो,या,यी,यूकीटमृगराक्षसआदि
मूलये,यो,भा,भीमनुष्यश्वानराक्षसआदि
पूर्वाषाढ़ाभू,ध,फ,ढ़पहले दो चरण मनुष्य, बाद के दो चरण चतुष्पदवानरमनुष्यमध्य
उत्तराषाढ़ाभे,भो,जा,जीचतुष्पदनकुलमनुष्यअन्त्य
अभिजितजु,जे,जो,खकोई नहीं हैनकुलकोई नहींकोई नहीं
श्रवणखी,खू,खे,खोपहले दो चरण चतुष्पद, बाद के दो चरण जलचरवानरदेवअन्त्य
धनिष्ठागा,गी,गू,गेपहले दो चरण जलचर, बाद के दो चरण मनुष्यसिंहराक्षसमध्य
शतभिषागो,सा,सी,सूमनुष्यअश्वराक्षसआदि
पूर्वाभाद्रपदसे,सो,दा,दीपहले तीन चरण मनुष्य,बाद का एक चरण जलचरसिंहमनुष्यआदि
उत्तराभाद्रपददू,थ,झ,णजलचरगौमनुष्यमध्य
रेवतीदे,दो,चा,चीजलचरगजदेवअन्त्य

Call us: +91-98726-65620
E-Mail us: info@bhrigupandit.com
Website: http://www.bhrigupandit.com
FB: https://www.facebook.com/astrologer.bhrigu/notifications/
Pinterest: https://in.pinterest.com/bhrigupandit588/
Twitter: https://twitter.com/bhrigupandit588

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>